छोटा सा इन्वेस्टमेंट करें व अच्छी आमदनी पाएं

मोती की खेतीअगर आप छोटे से इन्‍वेस्‍टमेंट से अच्छी आमदनी कमाना चाहते हैं तो आपके लिए मोती की खेती एक बेहतर विकल्‍प हो सकती है। मोती की मांग इन दिनों घरेलू और अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में काफी अधिक है, इसलिए इसके अच्‍छे दाम भी मिल रहे हैं। आप महज 20,000 -30,000 रुपए के इंन्‍वेस्‍ट से करीब डेढ़ साल में 1.5 से 2.0 लाख रुपए तक  की कमाई कर सकते हैं।

 

20 हजार रुपए के इन्‍वेस्‍टमेंट से शुरू हो सकती है खेती
-मोती की खेती उसी प्रकार से की जाती है जैसे मोती प्राकृतिक रूप से तैयार होता है। यहां भी आपको सीप से ही मोती
बनाना है।
-मोती की खेती करने के लिए इसे छोटे स्‍तर पर भी शुरू किया जा सकता है। इसके लिए आपको 500 वर्गफीट का तालाब बनाना होगा।
-तालाब में आप 100 सीप पालकर मोती उत्‍पादन शुरू कर सकते हैं। प्रत्‍येक सीप की बाजार में कीमत 15 से 25 रुपए होती है।
-इसके लिए स्‍ट्रक्‍चर सेट-अप पर खर्च होंगे 10 से 12 हजार रुपए, वाटर ट्रीटमेंट पर 1000 रुपए और 1000 रुपए के आपको इंस्‍ट्रयूमेंट्स खरीदने होंगे।
लाखों में हो सकती है कमाई
-15 से 20 महीने बाद एक सीप से एक मोती तैयार होता है, जिसकी बाजार में कीमत 300 रुपए से 1500 रुपए तक मिल जाती है।
– बेहतर क्‍वालिटी और डिजाइनर मोती की कीमत इससे कहीं अधिक 10 हजार रुपए तक अंतर्राष्‍ट्रीय बाजार में मिल जाती है।
– इस तरह अगर एक मोती की औसत कीमत आप 800 रुपए भी मानते हैं तो इस अवधि में 80,000 रुपए तक कमा सकते हैं।
– सीप की संख्‍या आप बढ़ाकर अपने संसाधनों के आधार पर कर सकते हैं मसलन अगर 2000 सीप पालते हैं तो इस पर खर्च करीब 2 लाख रुपए आएगा।
– इस हिसाब से आप 15 से 20 महीने की फसल पर आप 4 लाख रुपए तक कमा सकते हैं। बशर्ते आपके मोती बेहतर क्‍वालिटी के हों।
बीज डालने के लिए करनी होती है सीप की सर्जरी
– सबसे पहले आपको इस खेती के लिए कुशल वैज्ञानिकों से प्रशिक्षण की आवश्‍यकता होती है जो भारत सरकार के द्वारा कराया जाता है।
– प्रशिक्षण के बाद आपको सरकारी संस्‍थानों या मछुआरों से सीप खरीदने होंगे। सीपों को खुले पानी में दो दिन के लिए छोड़ा जाता हे।
– इससे उनके उपर का कवच और मांसपेशियां ढीली हो जाती हैं। सीपों को ज्‍यादा देर तक पानी से बाहर नहीं रखना चाहिए।
– मांशपेशियां ढीली होने के बाद सीपों की सर्जरी कर उनकी सतह पर 2 से 3 एमएम का छेद करके उसमें रेत का एक छोटा कण डाला जाता है।
– यह रेत का कण जब सीप को चुभता है तो वह उस पर अपने अंदर से निकलने वाला पदार्थ छोड़ना शुरू कर देता है।
– सीपों को नायलॉन के बैग में रखकर (एक बैग में 2 से 3) तालाब में बांस या पीवीसी के पाईप के सहारे छोड़ दिया जाता है।
– 15 से 20 महीने बाद सीप में मोती तैयार हो जाता है आप उसका कवच तोड़कर मोती निकाल सकते हैं।

देश-विदेश में है डिजाईनर मोती की बड़ी मांग
– आमतौर मोती गोल होता है लेकिन, खेती के जरिए आप मोती को डिजाइन में भी बना सकते हैं जिसकी कीमत ज्‍यादा होती है।
– सीप के अंदर किसी भी आकृति (गणेश, ईसा, क्रॉस, फूल, आदि) का फ्रेम डाल देते हैं, पूरी प्रक्रिया के बाद मोती यही रूप लेता है।
– देश विदेश में इस प्रकार के मोतियों की बहुत अधिक मांग है और यह साधारण मोती से कई गुना अधिक कीमत पर बिकते हैं।
– एक मोती की कीमत 200 रुपए से 400 रुपए तक हो सकती है, बशर्ते उसकी क्‍वालिटी अच्‍छी हो।
सरकार खुद कराती है ट्रेनिंग
– मोती की खेती देश में बहुत पहले से की जाती रही है, लेकिन करीब 4 दशक पहले यह बिल्‍कुल न के बराबर हो गई थी।
– इंडियर काउंसिल फॉर एग्रीकल्‍चर रिसर्च के तहत एक नए विंग सीफा यानि सेंट्रल इंस्‍टीट्यूट ऑफ फ्रेश वॉटर एक्‍वाकल्‍चर इसके लिए ट्रेनिंग कराती है।
– इसका मुख्‍यालय भुवनेश्‍वर में है और यह 2 दिनों की ट्रेनिंग देता है, जिसमें सर्जरी समेत सभी कुछ सिखाया जाता है।
– मोती की खेती पहले समुद्र तटीय क्षेत्रों में की जाती थी लेकिन सीफा के प्रयोगों के बाद अन्‍य राज्‍य भी इसके लिए मुफीद हैं।

15 सालों के लिए मिलता है आसान लोन
– मोती की खेती का यदि आपके पास प्रशिक्षण है तो इसे बड़े स्‍तर पर शुरू करने के लिए आप लोन भी ले सकते हैं।
– इसके लिए नाबार्ड और अन्‍य कमर्शियल बैंक आपको 15 सालों के लिए सिंपल इंटरेस्‍ट पर लोन उपलब्‍ध कराते हैं।
– केंद्र सरकार की ओर से इस पर सब्सिडी की योजनाएं भी समय-समय पर चलाई जाती हैं।
– यदि आप इसमें कामयाब हो जाते हैं तो अपने बिजनेस को बढ़ाकर कंपनी भी बना सकते हैं और कमाई करोड़ों में कर सकते हैं।
खुद बेच सकते हैं अपने मोतियों को
-खेती के बाद उत्‍पाद को बेचना ही सबसे बड़ी बात होती है, लेकिन मोतियों के बारे में ऐसा बिल्‍कुल नहीं है।
– जयपुर, हैदराबाद, सूरत, अहमदाबाद, मुंबई आदि बड़े शहरों में मोती के हजारों व्‍यापारी मोतियों का कारोबार करते हैं।
– कई बड़ी कं‍पनियों के एजेंट देशभर में फैले होते हैं जो मोती उत्‍पादकों के संपर्क में आ जाते हैं।
– इनके अलावा आप अपने मोतियों को डायरेक्‍ट भी इंटरनेट व अन्‍य माध्‍यम से बेच सकते हैं।
– जयपुर में फ्रेश वाटर पर्ल फार्मिंग संस्थान मोती का व्‍यापार करने और प्राइवेट तौर पर ट्रेनिंग देने वाली संस्था है।
– इस कंपनी या इसके जैसी कंपनी के माध्‍यम से भी आप अपने मोती बेच सकते हैं।

20,000 करोड़ का कारोबार है दुनिया में
-पूरी दुनिया में इस तरह के मोतियों का कारोबार करीब 20100 करोड़ रुपए का है।
-भारत में बड़ी मात्रा में मोती पैदा किए जाते हैं लेकिन, फिर भी इसे इंपोर्ट भी किया जाता है।
– भारत हर साल करीब 50 करोड़ रुपए से अधिक के मोती इंपोर्ट करता है।
-लेकिन, जहां तक एक्‍सपोर्ट की बात है तो मोतियों का एक्‍सपोर्ट भी भारत से 100 करोड़ रुपए से अधिक का है।
– भारत से डिजाईनर मोतियों का ज्‍यादा एक्‍सपोर्ट होता है इसलिए आप अपने को इस तरफ भी मोड़ सकते हैं।

7 thoughts on “छोटा सा इन्वेस्टमेंट करें व अच्छी आमदनी पाएं

  1. was trying to find something related to pearl farming and suddenly came acrox your post. does it really this much fruitful business … can one really earn such big amount with pearls farming ? Would you like to reply on this query..

    1. yes .. you can earn but before entering in any business you must care that money does not come easily. though this business can help you earn good amount in a year but you must believe first that you can do this business.

      You can start this business with minimum cost as low as 10,000 and get good return say approx 1.5 lck after 7-9 months. for more details just drop us a mail or call as

      1. Selling is hard part and if this is high profitable , no one will miss , but this is good business not a high prifitable . And big problem is where a common ma n can sell his pearls because a normal kissan doesn’t know about internet and can’t reach market directly . One more importent thing no body is selling pearls more then 150 rupees per piece .because 80 to 120 rs per pearls is being bought by market .please put truth don’t make fool to innocent people .

        1. Mr. Jay you are right no one can make laks of money with this particular business. You can simply ear 2-3 time of the amount you will spend in setup and other things. And not easily, but you can get approx Rs. 300 /- for designer pearls. We do not make fool of our students …. we make them clear with the facts that you are not going to be lakhapti overnight.

    1. No doubt this business is really good and have potential but not that much as you are seeing on YouTube and on other media posts … there is no business which can get you 10 to 15 times profit against spent 50k, but if you want to do this business seriously and being on ground level yes you can earn 2-3 times of your spent money.

      you will need approx 30k to start this business with approx 1,000 mussels which is minimum requirement to start this business and after 10 months when your designer pearls are ready you can get approx 1,000 pearls and you can sale them at the price of 100-150 rs. per piece.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *